Google+ Followers

शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2009

दाल-बाटी-चुरमा


मालवा का प्रसिद्ध भोजन हे दाल-बाटी-चुरमा तो आज आपको इसकी विधि बताने जा रही हू. बहुत ज़्यादा मुश्किल नही हे आप आसानी से घर पर बना सकते हे. हा इसके लिए ओवन की ज़रूरत होगी . वेसे पारंपरिक रूप से बाटी कॅंडो पर बनाई जाती हे लेकिन हम घर पर ओवन मे इसे बना सकते हे. आइए जाने इसे बनाने का तरीका.



सामग्री:
बाटी व बाफले के लिए:
गेहू का आटा- ३०० ग्राम
मक्‍के का आटा- ५० ग्राम (यदि आप चाहे)
रवा ( सूजी) - ५० ग्राम
हल्दी- एक चुटकी
अजवाइन- एक चौथाई चम्मच
मीठा सोडा- एक चौथाई चम्मच
दही या छाछ- एक कप
घी या तेल- ४ छोटी चम्मच (मोयन के लिए)
नमक- स्वादानुसार
घी- ४-५ बड़े चम्मच ( बाटी पर उपर से डालने के लिए)





विधि: बाटी व बाफले

सबसे पहले गेहू का आटा, रवा और मक्‍के के आटे को छान ले. अब इसमे अजवाइन,हल्दी,नमक,मीठा सोडा,दही या छाछ और घी डालकर अच्छे से मिक्स करे और पानी की सहायता से सख़्त आटा गुथ ले.
अब इस आटे से थोड़ी सी लोई ले कर गोले बना ले. गोले बहुत ज़्यादा छोटे या बहुत बड़े नही होने चाहिए. अब यदि बाफले बनना हे तो एक पतीली मे पानी डालकर उबाले और अच्छा उबाल आने पर उसमे सारे गोले छोड़ दे और अच्छे से उबलने दे. थोड़ी देर मे सारे गोले उबालकर उपर आ जाएँगे . इन्हे एक प्लेट मे निकाल ले और ५-१० मिनट सूखने दे. अब ओवन गरम करे और सारे गोले धीमी आँच पर सेक ले. बीच बीच मे पलट भी दे ताकी ये जले ना. जब बाफले सिक जाए तब एक पतीली मे घी गरम करे और एक एक कर सारे बाफले घी मे डूबा कर गरमा गर्म सर्व करे.
यदि बाटी बनाना चाहते हे तो आटे से गोले बना ले और उन्हे सीधे ओवन मे धीमी आँच पर सेक ले. इन्हे उबालने की ज़रूरत नही होती. जब बाटी अच्छी तरह सींक जाए तो गर्मागर्म घी मे डुबो कर सर्व करे.

दाल की सामग्री:

तुवर दाल- १५० ग्राम
मुंग दाल (मोगर)- ५० ग्राम
प्याज- एक बड़ा
लहसुन- २ बड़ी चम्मच पेस्ट
अदरक- आधी चम्मच पेस्ट
हरी मिर्च- ३-४
मुंग फली दाने- आधी छोटी कटोरी
तिल - आधी छोटी कटोरी
टमाटर- २ बड़े ( कद्दूकस किए हुए)
लाल मिर्च- आधा चम्मच
पीसा धना- आधा चम्मच
हल्दी आधा- चम्मच
राई- आधी चम्मच
जीरा- आधी चम्मच
चीनी- आधा चम्मच ( यदि आप चाहे)
गरम मसाला- आधा चम्मच
हींग- २ चुटकी
हरा धनिया- आधी कटोरी ( सजाने के लिए )
तेल- ३-४ चम्मच



सबसे पहले दाल को अच्छी तरह धो कर १ घंटे के लिए भिगो दे. अब प्रेशर कुकर मे दाल और लगभग ३-४ कटोरी पानी, हींग,हल्दी डालकर अच्छे से उबाल ले.

मुंग फली और तिल को कड़ाई मे सेंक कर मिक्सी मे दरदरा पीस ले.

अब कड़ाई मे तेल डालकर गरम करे और राई,जीरा,हींग डाल कर तड़का दे. अब इसमे प्याज,लहसुन,अदरक,हरी मिर्च का पेस्ट डाल कर अच्छी तरह पकाए. जब मसाला आधा पक जाए तब उसमे पीसी मूँगफली और तिल डाल कर गुलाबी होने तक पकाए जब मसाला पक जाए तब लाल मिर्च,हल्दी,धना पावडर,नमक, मिला दे और जब ये मसाले तेल छोड़ने लगे तब कद्दूकस किया हुआ टमाटर मिला दे.
टमाटर पकने पर दाल मिला दे और जितनी गाढ़ी दाल रखनी हे उस हिसाब से पानी डालकर उबाल ले. अंत मे गरम मसाला, चीनी और बारीक कटा हरा धनिया डाल कर सर्व करे.


चुरमा :

बाटी या बाफले जो हमने बनाए हे उनमे से २-३ बाटी व बाफले मिक्सी मे दरदरा पीस ले और कड़ाई मे घी डाल कर धीमी आँच पर गुलाबी होने तक सेक ले. ठंडा होने पर पीसी हुई चीनी और घी मिला ले. लीजिए चुरमा बन चुका हे. आप चाहे तो इसमे काजू, बादाम, किशमिश, इलायची डाल कर लड्डू बाँध सकती हे. लेकिन पारंपरिक तरीके से जो चुरमा बनता हे उसमे ये सब नही डाला जाता.

टिप्स: यदि आपके पास मक्‍के का आटा या रवा नही हे या दोनो मे से कोई एक हे तो आप केवल रवा या मक्‍के का आटा डाल सकते हे.
तुवर की दाल जब भी बनानी हो उसके पहले उसे १ घंटे के लिए भिगो देने से और कच्ची दाल मे पकाते समय हींग और हल्दी डालने से दाल बहुत स्वादिष्ट बनती हे।



प्रेषक
मोनिका दुबे (भट्ट)